Politics

  एयरसेल एक्सिस मामला – सुप्रीम कोर्ट ने लगाई चिदंबरम के बेटे को फटकार
Thursday 11 January 2018
एयरसेल एक्सिस मामला – सुप्रीम कोर्ट ने लगाई चिदंबरम के बेटे को फटकार पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने कड़ी फटकार लगाई। दरअसल 2जी घोटाले से जुड़े एयरसेल मैक्सिस सौदा मामले की सुनवाई के दौरान नयी बेंच ने कार्रवाई शुरु की तो कार्ति के वकील ने सुनवाई के दौरान नयी बेंच के सामने कहा, `हमें खुशी है कि अब आप इस मामले की सुनवाई कर रहे हैं। वकील के ऐसा कहते ही बेंच ने कड़ी फटकार लगाई।  बेंच ने कड़ी फटकार लगाते हुए कार्ति और उनके वकील से कहा, `हमारे सामने इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल न करें। हम संवैधानिक जिम्मेदारी अदा करने के लिए यहां हैं, आपको खुश करने के लिए नहीं। आपको अदालत की गरिमा बनाए रखनी चाहिए।  गौरतलब है कि बुधवार को सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्‍यायाधीश दीपक मिश्रा ने इस मामले की सुनवाई से खुद को अलग कर लिया है। दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में उन्होंने 2जी स्पेक्ट्रम आवंटन से संबंधित मामले की सुनवाई की थी, इसलिए उन्होंने इन याचिकाओं की सुनवाई करने से इनकार कर दिया।   ...Read More
 
 
  निशाने पर आम आदमी पार्टी
Thursday 11 January 2018
निशाने पर आम आदमी पार्टी 20 से ज्यादा विधायकों को लाभ के पद पर रखने के खिलाफ कांग्रेस ने आम आदमी पर निशाना साधा है। ...Read More
 
 
  अमेरिका ने दिए पेरिस जलवायु समझौते में शामिल होने के संकेत
Thursday 11 January 2018
अमेरिका ने दिए पेरिस जलवायु समझौते में शामिल होने के संकेत अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पेरिस जलवायु समझौते में शामिल होने का संकेत दिया है। समझौते से खुद को अलग करने के करीब 6 महीने बाद अमेरिका का रुख बदला नजर आ रहा है। नॉर्वे की पीएम एर्ना सोलबर्ग के साथ हुए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ट्रम्प ने कहा कि अगर डील अच्छी दिखती है तो अमेरिका इस समझौते में दोबारा शामिल हो सकता है। उन्होंने ये बात भी साफ की कि पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने जिस समझौते पर दस्तखत किए थे उससे उन्हें एतराज था।  जुलाई 2017 में अमेरिका ने खुद को पेरिस जलवायु समझौते से ये कहकर अलग कर लिया था कि इसमें भारत और चीन के लिए सख्त प्रावधान नहीं किए गए थे। अमेरिका का कहना था कि पेरिस जलवायु समझौता अमेरिकी अर्थव्यवस्था के लिए घातक है। उसने साफ कहा था अमेरिका अकेले इसके लिए अरबों डॉलर तो दे रहा है लेकिन भारत और चीन जैसे सबसे ज्यादा प्रदूषण फैलाने वाले देश कोई योगदान नहीं दे रहे हैं। समझौते से बाहर निकलने के लिए अमेरिका ने यही वजह बतायी थी। पेरिस समझौते से बाहर हो जाने पर भारत समेत कई देशों ने अमेरिका के खिलाफ कड़ी प्रतिक्रिया व्यक ...Read More
 
 
  यूपी के अधिकारियों ने लालू की पैरवी के लिए सीबीआई जज को किया था फोन?
Thursday 11 January 2018
यूपी के अधिकारियों ने लालू की पैरवी के लिए सीबीआई जज को किया था फोन? चारा घोटाला मामले में रांची की बिरसा मुंडा जेल में बंद आरजेडी अध्यक्ष को लेकर एक के बाद एक कई चौंकाने वाले मामले सामने आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश के जालौन डीएम मन्नान अख्तर और एक एसडीएम ने लालू को सजा सुनाए जाने से पहले स्पेशल सीबीआई जज शिवपाल सिंह को सिफारिश के लिए फोन किया था। अपनी सिफारिश में इन दोनों अधिकारियों ने लालू के हितों का ख्याल रखने की गुजारिश की थी। गौरतलब है कि सीबीआई के जज शिवपाल सिंह ने सुनवाई के दौरान लालू से ये बात कही थी कि पैरवी के लिए उनके कई शुभचिंतकों के फोन आ रहे हैं। लेकिन वे कानून के मुताबिक ही फैसला देंगे। उधर, मामले को संज्ञान में लेते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने जांच के आदेश दे दिए हैं। झांसी के आयुक्त को पूरे मामले की जांच की जिम्मेदारी सौंपी गई है। सीएम ने जांच जल्द पूरी कर रिपोर्ट सौंपने को कहा है। दूसरी ओर, जालौन के कलेक्टर ने पैरवी के लिए सीबीआई जज को फोन करने की बात से साफ तौर से इनकार किया है। उनका कहना है कि उन्होंने पैरवी के लिए कभी फोन नहीं किया। हम आपको बता दें कि सीबीआई जज शिवपाल सिंह उत्तर ...Read More
 
 
  भारतीय सेना प्रमुख के बयान पर चीन ने साधी चुप्पी
Wednesday 10 January 2018
भारतीय सेना प्रमुख के बयान पर चीन ने साधी चुप्पी भारतीय थलसेना प्रमुख बिपिन रावत ने मंगलवार को कहा था कि डोकलाम में चीनी सैनिकों की संख्या में काफी कमी आई है और दिसबंर के अंतिम सप्ताह में अरुणाचल प्रदेश के ट्यूटिंग क्षेत्र में पैदा हुए तनाव को भारत और चीन ने आपसी समझौते से हल निकाल लिया है। बिपिन रावत के इन बयानों पर चीन ने चुप्पी साध ली है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने कहा, ‘‘डोकलाम इलाके में तैनात और वहां गश्त कर रहे चीनी सैनिक ऐतिहासिक परंपराओं के अनुसार संप्रभुता संबंधी अधिकारों का इस्तेमाल कर रहे हैं और क्षेत्रीय संप्रभुता को बरकरार रख रहे हैं।’’  अपने बयान में लू कांग ने सिर्फ अरुणाचल प्रदेश पर चीन के दावे को दोहराया। उन्होंने कहा, ‘‘डोकलाम का इलाका हमेशा से चीन का हिस्सा है और चीन के लगातार एवं प्रभावी अधिकार क्षेत्र में रहा है। इस बाबत कोई विवाद नहीं है।’’ लू कांग ने कहा कि भारत-चीन के पूर्वी सेक्शन में भारी विवाद है। लू कांग ने कहा कि इस ट्यूटिंग विवाद से निपटने के लिए हमें आपसी सहमति से एक समझौते तक पहुंचना होगा, लेकिन इससे पहले उस क्षेत्र में शांति और सुरक् ...Read More